प्रदेश में जनगणना-2011 का कार्य समयबद्ध तरीके से कराया जाये-मुख्य सचिव


लखनऊ: मुख्य सचिव अतुल कुमार गुप्ता की अध्यक्षता में आज भारत की जनगणना-2011 के सम्बन्ध में आयोजित महत्वपूर्ण बैठक में उत्तर प्रदेश में जनगणना के कार्यक्रम का विस्तार से प्रस्तुतीकरण किया गया। मुख्य सचिव ने एनेक्सी सभाकक्ष में आयोजित बैठक में भारत की जनगणना-2011 के प्रथम चरण में मकान सूचीकरण व मकान गणना एवम् राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर तैयार करने का कार्य उत्तर प्रदेश में 16 मई से 30 जून 2010 के मध्य कराने के निर्देश दिए।
मुख्य सचिव ने कहा कि राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर परिवार अनुसूची में अपने परिवार का विवरण अवश्य दर्ज कराये, इसके लिए सभी नागरिक अपने यहां आये प्रगणक को सही और पूरी जानकारी दें।
बैठक में भारत के महारजिस्ट्रार एवं जनगणना आयुक्त डा0 च0 चन्द्रमौलि ने भारत की जनगणना-2011 के सापेक्ष में उत्तर प्रदेश राज्य की स्थिति व आंकड़ों के सम्बन्ध में विस्तार से जानकारी देते हुए बताया कि राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर के तहत देश के सभी निवासियों के व्यक्तिगत ब्यौरों के साथ ग्रामीण एवं नगरीय क्षेत्रों के 15 वर्ष और इससे अधिक आयु के सभी निवासियों के फोटोग्राफ और अंगुलियों की छाप ली जायेगी। राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर तैयार करने के लिए आंकड़े एकत्र करने का कार्य जनगणना-2011 के मकानसूचीकरण कार्य के साथ किया जायेगा। यह कार्य पूरे भारत में अप्रैल, 2010 से सितम्बर, 2010 की अवधि में पूर्ण किया जायेगा। यह कार्य उत्तर प्रदेश में 16 मई से 30 जून, 2010 की अवधि में सम्पन्न किया जायेगा।
उन्होंने बताया कि राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर तैयार हो जाने पर देश का व्यापक पहचान डाटा बेस होगा। यह न केवल देश की सुरक्षा को मजबूत करेगा बल्कि सरकारी योजनाओं/कार्यक्रमों के लाभों और सेवाओं के बेहतर लक्ष्य निर्धारण और योजना बनाने में भी मदद करेगा।
निदेशक जनगणना नीना शर्मा ने बताया कि जनगणना-2011 के तहत उत्तर प्रदेश के 71 जिलों की 312 तहसीलों, 647 नगरों, 1.07 लाख ग्रामों, लगभग 4.2 करोड़ परिवारों व 21.1 करोड़ जनसंख्या के सम्बन्ध में आंकड़ों को एकत्र कराया जायेगा। इस कार्य में 3 लाख 87 हजार 536 प्रगणक, 64 हजार 690 पर्यवेक्षक व प्रशिक्षण हेतु 9 हजार 43 मास्टर ट्रेनर्स तैनात किये जायेंगे।
बैठक में बताया गया कि इस अवधि में घर-घर आ रहे प्रगणक को परिवार के मुखिया का नाम व लिंग, परिवार में व्यक्तियों की संख्या, मकान निर्माण में प्रयोग की गई सामग्री, मकान के स्वामित्व की स्थिति व कमरों की संख्या, विवाहित दम्पत्तियों की संख्या, रसोई, स्नानगृह व शौचालय की सुविधा, पेयजल, प्रकाश, ईंधन, गंदे पानी की निकासी की सुविधा, रेडियो, टेलीविजन, कम्प्यूटर, टेलीफोन, वाहन व बैंकिग सेवा की सुविधा आदि की जानकारी दें।
राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर हेतु प्रगणक को व्यक्ति का नाम, मुखिया से सम्बन्ध, माता, पिता, पत्नी/पति का नाम, लिंग, जन्मतिथि, वैवाहिक स्थिति, जन्मस्थान, घोषित राष्ट्रीयता, सामान्य निवास का वर्तमान पता, वर्तमान पते पर रहने की अवधि, स्थायी निवास का पता, व्यवसाय/कार्यकलाप व शैक्षणिक योग्यता आदि की जानकारी दें। मकान सूचीकरण एवं मकान गणना में दी गई सभी सूचनायें कानूनन गोपनीय रखीं जायेंगी।
बैठक में प्रमुख सचिव सामान्य प्रशासन श्री के0के0सिन्हा, प्रमुख सचिव नियोजन श्री जे0एन0चेम्बर, अपर महारजिस्ट्रार श्री आर0सी0सेठी आदि उपस्थित थे।
……….

Leave a Reply


( Not More than 200 words)