एसएसबी के अंसल द्वारा जागरूक होने के बाद लोगों ने लिया कोविड 19 का टीका

 कोविड 19 टीकाकरण को सफल बनाने के लिए सीमा सुरक्षा बल ने किया लोगों को जागरूक ।



एसएसबी ने लोगों को भोजपुरी में किया जागरूक।


रक्सौल पूर्वी चम्पारण

रिपोर्ट-गणेश शंकर

 राज्य में सरकार एक ओर कोरोना टीकाकरण की रफ़्तार बढ़ाने की कोशिश कर रही है, तो दूसरी ओर रक्सौल अनुमंडल के ग्रामीण इलाक़ों में टीके को लेकर अभी भी कई तरह की आशंकाएं सामने आ रही हैं। सरकार द्वारा 16 जनवरी 2021 से वेक्सिनेशन किया जा रहा है परन्तु  6 माह बीत जाने के बाद भी रक्सौल अनुमंडल सहित सीमावर्ती इलाके के आधा आबादी शहरी व ग्रामीण नागरिक कोविड 19 का टीका नहीं ले पाए है। ग्रामीण व शहरी इलाक़ों में अभी 18 प्लस व  45 प्लस के लोगों का टीकाकरण हो रहा है लेकिन गांवों में टीके को लेकर लोगों में उत्साह और जागरूकता की कमी काफी दिख रही है लोगों का कहना है कि कोरोना से नहीं बल्कि टीके से ही डर लगता है स्वस्थ्य विभाग व स्थानीय स्तर पर पुलिस प्रशसान की टीम द्वारा लगातार जन जागरूकता अभियान चलाया जा रहा है फिर भी लोग वेक्सीनेशन के लिए तैयार नहीं दिख रहें है।



 वैश्विक महामारी में रक्सौल अनुमंडल के आदापुर प्रखंड के कोरैया, मूर्तिया, इस्लामपुर, चन्द्रमनपुर आदि गांव के लोगों द्वारा कोविड 19 का टीका नहीं लेने की जानकारी जब आदापुर के कोरैया कैम्प के सीमा सुरक्षा बल के 71 वी बटालियन को मिली, तो वे अपने कैम्प के जवानों के साथ स्वास्थ्य विभाग के कर्मियों को लेकर गांवों के ग्रामीणों को शनिवार को जागरूक करने निकल पड़े गांव के लोगों को जागरूक करते हुए कोरैया कैप्म के 71 वी बटालियन असिस्टेंट कमाण्डेन्ट अंसल श्रीवास्तव ने ग्रामीणों से कहा कि स्वास्थ्य विभाग के लोगों की बाते को सुने वह आपके हित के लिए काम कर रहे हैं मुझे जानकारी मिली थी कि सीमावर्ती इलाकों के लोग किसी अफवाह में पर कर टीका नहीं रहे है इसलिए मुझे आप लोगों के भ्रम को दूर करने के लिए आना पड़ा। यह गांव  नेपाल का बारा जिला से सटा हुआ है। इस इलाके के लोगों का संबंध भारत व नेपाल में है। वही एसएसबी द्वारा समझाने के बाद ग्रामीण कोविड 19 टीकाकरण लेने को हुए तैयार।  मौके पर जागरूक टीम में भारत के 71 वी बटालियन एसएसबी के जवान, स्वास्थ्य विभाग के संजय कुमार शर्मा, सुजीत कुमार, डा अमीर हुसैन शामिल थे    


वीडियो- जागरूक करते कोरैया कैप्म के 71 वी बटालियन असिस्टेंट कमाण्डेन्ट अंसल श्रीवास्तव 



एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ