बारिश के जल जमाव से राजधानी का हाल हुआ बुरा

 पटना 


पिछले पांच दिनों से बिहार में लगातार हो रही बारिश से सबसे बुरा हाल राजधानी पटना का है। यहां 70 से अधिक कॉलोनियाें में जल जमाव हो गया है। नाली नाला जाम हैं जिससे मोहल्लों का पानी बाहर नहीं निकल पा रहा है। बिहार में 1 जून से 17 के बीच हुई बारिश से पटना में जल निकासी की तैयारी में की गई मनमानी सामने आ गई है। बारिश बंद होने के बाद अधिकांश इलाकों में साढे 5 से 7 घंटे तक जल जमाव की स्थिति बनी रहती है। जल जमाव से प्रभावित 50% से अधिक मोहल्ले ऐसे हैं जहां बारिश के दाे दिन बाद भी सड़क पर पानी और कीचड़ से लोगों का बाहर निकलना मुश्किल है।

पटना के पॉश इलाके में हाल बेहाल

पटना के कुर्जी में लोयला हाई स्कूल के पास जल-जमाव से लोगों को परेशानी हो रही है। यहां घर में भी पानी जमा हो गया है। सड़क से नाला नानी का उंचा होना समस्या बन गया है। लोगों का कहना है कि घर से बाहर निकलना मुश्किल हो गया है। पटना के यारपुर, कुम्हरार के रोड नंबर पांच, टीचर्स कॉलोनी, शांति मार्केट, न्यू पाटलिपुत्रा कॉलोनी, राजीवनगर, पाटलिपुत्रा के अन्य मोहल्लाें में जलजमाव की स्थिति है। शिव शक्ति नगर और कस्तूरबा कॉलोनी में भी जल जमाव से लाेगों को परेशानी हो रही है।

नंदलाल छपरा में पानी से हुई मुश्किल

नंदलाल छपरा में जल जमाव से लोगों की हालत खराब है। यहां मुख्य सड़क से मोहल्ले में जाने के लिए काफी समस्या हो रही है। दक्षिणी द्वारिका नगर में भी काफी समस्या हो रही है। रामकृष्णा नगर के वार्ड 32 मधुबन कॉलोनी में भी लोगों को जल जमाव से काफी समस्या हो रही है।

लगातार हो रही बारिश से सड़कों पर जलजमाव

कई जगहों पर नालों में भी पानी भर गया है ,लोगों के घरो से भी पानी नहीं निकल रहा जिसकी वजह से उन्हें भारी मुसीबतों का सामना करना पड़ रहा है। बारिश के पानी के साथ कीड़े- मकोड़े भी घरों में घुस रहे हैं। कई जगहों पर पानी इतना ज्यादा है की लोगों को अपनी बाइक और कार से जाने में भी डर लग रहा है। न्यू पाटलिपुत्रा कॉलोनी में तो आए दिन लोग गिरकर चोट खा रहे हैं।

नालों की सफाई में मनमानी

पटना में नालों की सफाई में मनमानी की गई है। निचले स्तह को साफ नहीं कराया गया है जिससे कम बरसात में नाले भर गए हैं। बाक्स नालियों की जालियां पैक हैं इस कारण से मोहल्लों में जल जमाव की स्थिति बनी हुई है। पानी के बहाव को लेकर नाली को नाले से लिंक तक नहीं किया गया है। यह भी आफत का बड़ा कारण है। घर का पानी भी सड़कों पर जमा हो रहा है जिससे कीचड़ में लोगों का घर से निकल पाना मुश्किल हो रहा है।

दावों में नहीं है कोई दम

पटना के नगर आयुक्त हिमांशु शर्मा का कहना है कि जल निकासी के लिए नालों की सफाई की गई है। इसके साथ ही पंप को दुरुस्त करने का काम किया गया है। जिन इलाकाें में पानी लगने की अधिक संभावना रहती है वहां विशेष तैयारी की गई है। कोशिश यही है कि बारिश के बाद तत्काल पानी की निकासी कर दिया जाएगा जिससे लोगों को समस्या नहीं हो। लेकिन सच तो यह है कि 2019 में पटना में जल जमाव से बाढ़ की स्थिति होने के बाद भी सबक नहीं लिया गया है। मौसम विभाग का अनुमान इस बार सामान्य से अधिक बारिश को लेकर है और अभी से मोहल्लों की हालत खराब है। पटना में जल निकासी की व्यवस्था प्रॉपर तरीके से नहीं है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ