रक्सौल के शिक्षाविद्द हुए झारखंड के रांची में सम्मानित, रक्सौल में हर्ष का महौल

रांची(झारखंड):- 


रविवार को  झारखंड के रांची में इंटरनेशनल कंसोर्टियम ऑफ कंटेंपररी बायोलॉजिस्ट और एम. एस. ई. टी. के विद्वत परिषद् द्वारा आयोजित भव्य समारोह में प्रख्यात वैज्ञानिक डा० जनार्दन ने उस व्यक्ति को सम्मानित किया है जो अपना बहुमूल्य समय देकर सामाजिक व शिक्षा के क्षेत्र में सभी वर्ग को निरंतर सहयोग करते रहते है
 वे हैं सीमांचल के शहर के धरती के प्रमुख समाजसेवी व शिक्षाविद, के. सी. टी. सी. कालेज रक्सौल के पूर्व वनस्पति विज्ञान के  विभागाध्यक्ष, वर्तमान में एस. एल. के कालेज सीतामढी के प्राचार्य प्रो० डा० अनिल कुमार सिन्हा एवम्  के. सी. टी. सी. कालेज रक्सौल के जंतु विज्ञान विभागाध्यक्ष डा० चन्द्रमा सिंह।
जिन्हें रविवार को  झारखंड के रांची में "एमिनेंट साइंटिस्ट अवार्ड" से सम्मानित किया गया। साथ ही उन्हें स्वर्ण पदक, प्रमाण पत्र एवं मोमेंटो देकर भी सम्मानित किया।  वहीं टी. आर. एम कैंपस , बीरगंज नेपाल में  वनस्पति विज्ञानके एसोसिएट प्रोफेसर प्रो० किरण बाला को "सीनियर साइंसटिस्ट  अवॉर्ड" प्रदान किया गया।

डा० किरण बाला को अवॉर्ड एम. एस. ई. टी के सचिव श्रीमती पाली वसुधा ने प्रदान किया।

उक्त अवार्ड प्रो० सिन्हा को वनस्पति विज्ञान के क्षेत्र में चंपारण के थारू परिक्षेत्र में मेडिसिनल पौधों पर विशेष शोध कार्य के लिए दिया गया है। प्रो० चन्द्रमा सिंह को जंतु विज्ञान के क्षेत्र में विशेष शोध एवं डाo किरण बाला को  नेपाल वनस्पति विज्ञान के   क्षेत्र में विशेष योगदान के लिए  अवॉर्ड प्रदान किया गया है।

वही उधर अवार्ड दिए जाने की खबर पाकर बिहार के रक्सौल में तीन शिक्षाविदों के शुभचिंतकों के बीच खुशी की लहर दौड़ पड़ी। अवार्ड से सम्मानित होने पर रक्सौल कालेज कर्मियों एवं रक्सौल वासियों के अंदर हर्ष व्याप्त हो गया है। कालेज के प्राचार्य डा० जयनारायण प्रसाद, शिक्षक संघ के अध्यक्ष प्रो० प्रमोद कुमार सिन्हा,  प्रो०  राजकिशोर सिंह, प्रो० प्रदीप श्रीवास्तव, प्रो०  राजीव कुमार पांडेय, प्रो० दिनेश पांडेय, प्रो० प्रदीप श्रीवास्तव, कुमार अमित , शशि तिवारी ,  प्रो० मनीष दूबे आदि ने हर्ष व्यक्त करते हुए प्राचार्य प्रो० सिन्हा डा० सिंह एवं डा० किरण बाला को बधाई दी है और कहा है कि कालेज, शिक्षा क्षेत्र और रक्सौल सहित सीमांचल क्षेत्र के लिए गर्व की बात है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ