नेपाल भाग रहे पंजाब एवं सिंध बैंक के पूर्व डायरेक्टर दलजीत सिंह बल को इमिग्रेशन ने रक्सौल बॉर्डर से पकड़ा




4 हजार 3 सौ 55 करोड़ रुपए धोखाधड़ी करने का मुख्य आरोपी

 रक्सौल:-
 पंजाब महाराष्ट्र को- ऑपरेटिव सोसायटी बैंक के करोड़ो के धोखाधड़ी का मुख्य आरोपी दलजीत सिंह बल को आब्रजन विभाग रक्सौल के अधिकारियों ने बुधवार की रात भारत- नेपाल सीमा रक्सौल से नेपाल जाने के दौरान गिरफ्तार किया गया। दलजीत सिंह बल परिवार के साथ नेपाल के रास्ते कानाडा भागने की फिराक में था। इसकी गिरफ्तारी सुरक्षा एजेंसियों से मिले इनपुट के आधार पर की गई है। इकोनॉमिक ऑफेंस विंग (EOW) को दे दी गई है। इकोनॉमिक ऑफेंस विंग के अधिकारी वहां पहुंचने वाले है। इस मामले में वर्। 2019 में प्राथमिकी दर्ज हुई थी। तब से यह फरार चल रहे थे। 2019 में सामने आया था घोटाला 2019 में लोन की धोखाधड़ी और घोटाला सामने आया था। इसके बाद आरबीआई ने पीएमसी के बोर्ड को भंग कर बैंक से पैसे निकालने पर रोक लगा दी थी। इस घोटाले में बैंक के कई सीनियर अधिकारी शामिल पाए गए थे। बैंक द्वारा रियल एस्टेट कंपनी एचडीआईएल को दिए गए लोन की जानकारी रिजर्व बैंक को नहीं दी थी। दो साल पहले के इश घोटाले में अब तक सात लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है। इस बैंक स्कैम की जांच प्रवर्तन निदेशालय कर रहा है। मामले में कई लोगों के खिलाफ जांच चल रही है। जबकि इस मामले में दलजीत सिंह बल फरार चल रहे थे। जिनकी तलाश की जा रही थी। दलजीत सिंह बल बराबर जांच एजेंसियों को चकमा देकर फरार हो रहे थे। सन 2019 में दलजीत सिंह बल के खिलाफ 4 हजार 3 सौ 55 करोड़ रुपए धोखाधड़ी करने का मामला महाराष्ट्र पुलिस और इकोनॉमिक ओफेंस विंग ने दर्ज किया और वारंट जारी किया था। जिसके बाद से फरार था। दलजीत सिंह बल परिवार के साथ चोरी छिपे महाराष्ट्र से अपनी गाड़ी से रक्सौल पहुंचा और भागकर नेपाल जाने के क्रम में उसे आव्रजन अधिकारियों ने गिरफ्तार कर लिया। पूछताछ में उसने बताया कि नेपाल से कनाडा जाने की योजना थी। रक्सौल से नेपाल और फिर नेपाल से कनाडा जाकर अपने परिजनों के साथ स्थायी तौर पर अपना आशियाना बसाने की तैयारी कर चुका था। ताकि भारत की सुरक्षा एजेंसी के हांथो से बच सके। महाराष्ट्र पुलिस और इकोनॉमिक ओफेन्स विंग से अपने नियंत्रण में लेने के लिए रक्सौल के लिए रवाना हो चुकी है। ब्यूरो ऑफ इमिग्रेशन अजय कुमार पंकज ने बताया कि पंजाब महाराष्ट्र कॉपरेटिव बैंक ऑफ सोसायटी के निदेशक दलजीत सिंह बल अपने पत्नी और एक बेटा के साथ नेपाल के रास्ते कनाडा जाने की योजना थी। लेकिन देश की सुरक्षा एजेंसियों के इनपुट के आधार पर भारत नेपाल मैत्री पुल पर गिरफ्तार कर लिया गया। उन्हें फिलहाल नगर थाना को सौंप दिया है और महाराष्ट्र पुलिस को इसकी सूचना दे दी गयी है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ