स्वर कोकिला लता मंगेशकर को भारत विकास परिषद ने दी श्रद्धांजलि

रक्सौल:-


 शहर के बैंक रोड स्थित दिनेश कॉम्प्लेक्स में भारत विकास परिषद रक्सौल द्वारा एक श्रद्धांजलि सभा आयोजित कर सुर साम्राज्ञी भारत रत्न लता मंगेशकर को भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित की गयी। इस मौके पर कई संगीत प्रेमी महिलाओं ने भी उपस्थित होकर लता मंगेशकर को अपनी श्रद्धा-सुमन अर्पित की। श्रद्धांजलि सभा में लता मंगेशकर द्वारा गाये गीत रहे ना रहे हम महका करेंगे बन के कली बन के शबा बागें वफा में..के बीच स्वर साम्राज्ञी के तैलय-चित्र पर परिषद के सदस्यों एवं नगर के गणमान्य नागरिकों ने श्रद्धा सुमन अर्पित करते हुए दो मिनट का मौन रखा। इस मौके पर परिषद के मीडिया प्रभारी रजनीश प्रियदर्शी ने कहा कि संगीत प्रेमियों के दिलों पर दशकों तक राज करने वाली सरस्वती पुत्री लता मंगेशकर के निधन से समूची दुनिया के संगीत प्रेमियों के बीच शोक की लहर है। तभी तो उनके निधन को संगीत प्रेमियों ने संगीत जगत के लिये अपूरणीय क्षति बताया। वहीं परिषद के दिनेश प्रसाद ने कहा कि कवि प्रदीप के लिखे और सुर कोकिला लता दी द्वारा गाए ऐ मेरे वतन के लोगों.. गीत को सुनकर तत्कालीन प्रधानमंत्री पं. जवाहर लाल नेहरू की आंखों में आंसू आ गये थे। आज भी वह गाना बजता है तो हर आंख से बरबस आंसू निकल ही जाते हैं। वहीं परिषद के सचिव उमेश सिकारिया, वित्त सचिव सीताराम गोयल, संगठन संयोजक नीतेश कुमार, प्रशांत कुमार, मनोज सिंह ने कहा कि जब भी गीत-संगीत की बात होगी तो सबसे पहले लता मंगेशकर का नाम लिया जाएगा। लता दी द्वारा गाए गीत और उनकी सुरीली आवाज की कोई मिसाल नहीं है। लता दी भले आज इस दुनिया में नहीं हैं लेकिन उनके द्वारा गीत हमेशा अमर रहेंगे। शोक संवेदना व्यक्त करने वालों में वरीय सदस्य अवधेश सिंह, विजय कुमार साह, सुरेश धनोठिया, द्वारिका सर्राफ, सन्नी पटेल, पूनम देवी, उषा श्रीवास्तव, लक्ष्मी देवी, शांति देवी, मदन प्रसाद , रमेश कुमार, आशीष अग्रवाल, विकास कुमार, पप्पू कुमार, विक्की कुमार, हर्ष कुमार व छोटू कुमार आदि रहे। इसकी जानकारी परिषद के मीडिया प्रभारी रजनीश प्रियदर्शी ने दी।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ