यूक्रेन से घर लौटा निहाल, निहाल को देख माता-पिता के आंखे हुई नम


रक्सौल-


सत्याग्रह ट्रेन से पहुचा था निहाल रक्सौल, ट्रेन आने से घंटो पूर्व माता-पिता अपने पुत्र का कर रहे थे इंतजार

युद्ध क्षेत्र यूक्रेन से शहर के पटेल पथ निवासी धर्मनाथ प्रसाद व पंकज देवी के पुत्र निहाल कुमार रविवार को सत्याग्रह एक्सप्रेस से शाम को रक्सौल पहुंचा। जिसका इंतजार स्टेशन पर निहाल के पिता धर्मनाथ प्रसाद, माता पंकज देवी, चाचा शेषनाथ गुप्तास सहित अन्य परिजन कर रहे थे। ट्रेन से उतरने के बाद निहाल के मां व चाची गले लगकर खुशी की आंसु रोने लगी। निहाल भी भावविभोर हो गया था। निहाल ने अपनी आपबीती बताते हुए कहा कि यूक्रेन में काफी तबाही है। निहाल ने बताया मेरा नामांकन  खारकीव नेशनल मेडिकल कॉलेज में हुआ था। कॉलेज का भी बहुत हिस्सा क्षतिग्रस्त हो गया है। युद्ध देख लग रहा था कि जान बच पाएगा कि नहीं। उन्होंने कहा कि भारत सरकार के द्वारा छात्रों को लाने का काम काफी सराहनीय है। दिल्ली एयरपोर्ट पहुंचने के बाद बिहार सरकार के द्वारा भी दिल्ली से पटना हवाई जहाज से लाने व पटना से घर तक छोड़ने की सारी व्यवस्था हुयी थी। अधिकारियों ने मुझे कहा भी लेकिन मैं अपने निजी कार्यवश दिल्ली में एक दिन रूकने के बाद सत्याग्रह एक्सप्रेस से रक्सौल पहुंचा। इधर, निहाल के पहुंचने के बाद परिजन तथा शहर के लोगों ने हर्ष व्यक्त किया है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ