काली मंदिर में 451 कलश स्थापना कर नवरात्र का पूजा ......

 चैत्र नवरात्र आज से, सभी देवी मंदिरों में श्रद्धालुओं के लिए तैयारियां पूरी

कोरोना काल खत्म होने से श्रद्धालुओं की जुटेगी मंदिरों में भीड़

रक्सौल-

चैत्र नवरात्र की तैयारियां को लेकर शहर से लेकर ग्रामीण क्षेत्र में श्रद्धालु जुट गए है। इस वर्ष चैत्र नवरात्र दो अप्रैल यानी आज से प्रारंभ हो रही हैं, जो पूरे नौ दिन तक चैत्र नवरात्र मनाई जाएगी, समापन 11 अप्रैल को होगा। बीते दो साल में कोरोना संक्रमण के प्रकोप के चलते देवी मंदिरों में श्रद्धालु दर्शन के लिए नहीं पहुंच पाए थे। इस बार पाबंदियां खत्म हो गई हैं।


जिस कारण श्रद्धालुओं में इस बार खासी उत्साह देखा जा रहा है। इस बार शहर के काली मंदिर, मनोकामना मंदिर, माता मंदिर सहित अन्य मंदिरों में श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ेगी। इसके चलते शहर के सभी देवी मंदिरों में पूजा के तैयारियों में भक्त भव्य रूप से जुट गए है। शहर के काली नगरी स्थित काली मंदिर के पीठाधीश सेवक संजय नाथ ने बताया की इस बार भक्तों के द्वारा 451 कलश की स्थापना की जाएगी। उन्होंने बताया कि देश विदेश के लोग यहां चैत्र नवरात्रा में कलश की स्थापना करते है। कोरोना काल खत्म हो जाने के बाद मंदिर में भक्तों की भीड़ उमड़ेगी। काली मंदिर में नवरात्र की तैयारियां शुरू हो गई हैं। नौ दिनों तक माता के दरबार में पूजा-अर्चना होगी। चैत्र नवरात्र में कलश स्थापना दो अप्रैल को की जाएगी। कलश स्थापना का शुभ मुहूर्त दोपहर 12 बजे तक है। इसे देखते हुए मंदिर समिति ने तैयारियां शुरू कर दी है। मां के आगमन से पहले मंदिर प्रांगण में साफ-सफाई की जाएगी। मंदिर की आकर्षक विद्युत साज-सज्जा की जा रही है। नवरात्र में यहां दूर-दूर से हजारों की संख्या में श्रद्धालु आते हैं। कहा जाता है कि यहां कलश स्थापना से मां काली भक्‍तों की मनचाही मुराद जरूर पूरी करती हैं।

#####################

काली मंदिर में 451 कलश स्थापना कर नवरात्र का पूजा हुआ शुरू


 रक्सौल सीमावर्ती शहर के विभिन्न देवी मंदिरों में चैत्र नवरात्रा को लेकर मंदिरों में भक्तों की भीड़ देखी गई। शहर के काली मंदिर, मनोकामना मंदिर, माता मंदिर सहित अन्य मंदिरों में सुबह से ही कलश स्थापना को लेकर पूजा अर्चना शुरू हो गई। बीते दो वर्षो से कोरोना संक्रमण के चलते मंदिरों में श्रद्धालु दर्शन को मंदिर नही पहुच पाए थे लेकिन इस बार पाबंदियां खत्म हो गई है। जिस कारण श्रद्धालुओं में इस बार खासी उत्साह देख रहा है। वही शहर के कालीनगरी स्थित काली मंदिर में तांत्रिक विधि से शनिवार से कलश की स्थापना की गयी। उत्तर बिहार में रक्सौल के काली मंदिर ही ऐसा मंदिर है, जहां पर पूरे नवरात्र में तांत्रिक विधि से पूजा पाठ की जाती है। इसकी जानकारी देते हुए काली मंदिर के पिठाधिश्वर सेवक संजय नाथ ने बताया कि इस बार नवरात्र में कुल 451 कलश की स्थापना कर देवी की पूजा अर्चना की जा रही है। जिसमें देश-विदेश के भक्तों के कलश भी शामिल है। वही पूरे नवरात्र सुबह-शाम भष्म आरती भी होती है। जिसमे सैकड़ो की संख्या में भक्त शामिल होते है। पूजा में पूरे नवरात्र राजीव जायसवाल, सत्यप्रकाश सिंह, अभिषेक वर्मा, राजीव वर्मा, अखिलेश सिंह, नंदा सिंह, राजेश त्रिपाठी, विनोद सिंह सहित अन्य भक्तों की देख रेख में सम्पन्न होती है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ